SINCE 1991 ARE WE ABLE TO CREATE ENOUGH JOBS?

Compared to 1991 more people are unemployed now and the gap between total number of workers and employment is increasing. And this is official government version of the data. Latest Asia-Pacific Human Development Report, released by UNDP, says that between 1991 and 2013, the size of the “working age” population increased by 300 million. But, Indian economy could employ only 140 million – less than half of the new entrants to the labour market.

Advertisements

Should Syria be a litmus test for the left in the 2016 elections?

To start with, as I have pointed out before, a search in Nexis for “Jill Stein”, “Green Party” and “Syria” returns zero articles while for “Jill Stein”, “Green Party” and “fracking” returns 18 and “Jill Stein”, “Green Party” and “global warming” returns 21. So this will give you an idea of where her priorities are.

सउदी अरब तथा अन्य खाड़ी देशों के प्रति मोदी सरकार का ढुलमुल रवैया क्यों?

प्रधानमंत्री मोदी को जिन्होंने खाड़ी देशों में यात्रा करने वाले प्रथम भारतीय प्रधानमंत्री होने को ट्वीट कर देश को बताया था। उन्हें याद रखना चाहिए देश आपकी सऊदी शाहों के साथ सेल्फी, मस्जिद यात्रा व नागरिक सम्मान के तस्वीरों से खुश होने वाला नहीं आपने वहां भारतीय मजदूरों के संग खाना खाया था, किन्तु आज वो खाने को मोहताज है, पीने के पानी नहीं है और आप अपने शाही दोस्त से शिकायत तक नहीं कर पा रहे हैं। यह समझ से परे है।

Prof Chomsky & Halle, please do not confuse the Left

Liberals like Mr. Halle and unfortunately even Professor Chomsky, who has contributed much to the political education of progressives in this country and beyond, don’t feel any urgency to see fundamental change in this country. They don’t seem to hunger for real change. It’s easy for them to suggest staying in holding position and wait until some day a movement can develop, so we don’t have to choose one of two evils, anymore.

एक मुखरता का मौन होना

बंगाल के सांस्कृतिक इतिहास में ऐसे अनेक व्यक्ति हुए हैं, जिन्होंने न सिर्फ उस इलाके के, बल्कि पूरे देश की चेतना पर गहरा असर डाला है. महाश्वेता देवी इस सिलसिले का संभवतः अंतिम नाम है.

Chris Harman’s ‘A People’s History of the World: From the Stone Age to the New Millennium’

A People’s History of the World is a fascinating and comprehensive analysis by a well-known British historian, Chris Harman, that traces earliest human history to the Roman Empire, from the Middle Ages to the Age of Enlightenment, from the industrial Revolution to the end of the Millennium. Focusing on the development of technology, its impact on the society and conflict, he dwelt on how the society has changed and developed, what possibilities are for further radical change in the 21st century.

जिंदगी की जुस्तजू में प्रेम का दीप ‘कोशिश’

सक्रिय समाज के बीच हरि-आरती जैसे लोग अजनबी महसूस करते होंगे. हरि समान लोगों के लिए सामान्य जिंदगी गुजर करना बड़ा मुश्किल है. कोशिश अपनी राह में उन सभी चुनौतियों का डटकर सामना करती नजर आती है. संजय लीला भंसाली की ‘खामोशी’ के लिए रेफेरेन्स प्वाइंट यही फिल्म रही होगी. कोशिश का उद्देश्य अक्षम लोगों की दिक्कतों को दिखाना-भर नहीं था, बल्कि हरि -आरती के उदाहरण के जरिए हिम्मत-हौसले व प्रेम की विजय को दिखाना था.

बर्नी सांडर्स के नाम एक पत्र

आपने हिलेरी क्लिंटन की राजनीति पर भी खूब बोला है। जो आपको समर्थन मिला और जो वोट मिले, वे मुख्य रूप से हिलेरी की राजनीति के खिलाफ ही मिले थे। हिलेरी उसी राजनीति की कमांडर हैं जिन्हें दुनिया ने लंबे समय से भोगा है। यह सब आप कह चुके हैं। मुझे उम्मीद थी कि आप और जेरेमी कोर्बिन मिल कर दुनिया के दर्द की मरहम पट्टी करेंगे। आपने समर्पण कर दिया है। देखना है कि कोर्बिन कब तक टिकते हैं।

GDP Growth by Higher Government Salaries?

We are now riding the tiger of a high wage enclave of government employees, who also drive consumption and hence GDP growth. It may now be difficult to get off this tiger. Its now clearly much too big to be tamed. But can we make it work a bit more for the country? How about increasing government revenues?

मराठी सिनेमा से जगतीं उम्मीदें

मुंबई फिल्म उद्योग में भी बीते सालों में प्रयोगधर्मिता का सिलसिला शुरू हुआ है तथा दक्षिण से भी कुछ उम्दा फिल्में आई हैं, पर उनका मुख्य स्वर अब भी मुनाफे और सतही मनोरंजन को ही संबोधित है. इन इलाकों में फिल्मों से जुड़े लोग मराठी से सीख रहे हैं और उन्हें सीखना भी चाहिए. इतिहास में ऐसे अवसर बार-बार नहीं आते हैं, जब कलात्मक निराशा के दौर में उम्मीद की बिजलियां लगातार चमकती हों.

The crisis in the global economy

The crisis in the global economy is a subject that engages many and affects most of mankind. Like all such issues we find little clarity but a lot of fire and brimstone. Few have tried to seek feasible solutions. Even fewer are qualified, experienced and with a usefully cosmic view of the world we live in to write about it. Fortunately we still have people like Mervyn King. King was the Governor of the Bank of England from 2003 to 2013, a tumultuous period that saw the world economy expand at a record pace and then arrive at the precipice in 2008. We are still seeking to find new pathways to get over it. And clearly we are struggling.