हमारे आज की आवाज़

ज़ुल्मी जब जब ज़ुल्म करेगा सत्ता के हथियारों से
चप्पा चप्पा गूँज उठेगा इंकलाब के नारों से

माल्या को माल देने वालों पर कार्रवाई कब?

मोहन गुरुस्वामी दिल्ली स्थित सेंटर फॉर पॉलिसी ऑल्टरनेटिव्स के संस्थापक अध्यक्ष तथा केंद्रीय वित्त मंत्रालय के पूर्व सलाहकार हैं. उनसे mohanguru[at]gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है. हमारे कारोबारी समूहों से पैसे की… Continue reading

Kanhaiya Kumar & Arundhati Roy @Jantra-Mantar

On 15th March, JNU students and other organizations march to the Parliament. Kanhaiya Kumar, President of JNU Students’ Union and noted writer Arundhati Roy also addressed the rally with many other activists.

जेएनयू के प्रोफ़ेसर का गीत-संदेश

चले चलो दिलों में घाव ले के भी चले चलो…

ब्राजीलः लूला हीरो या विलेन!

लुइज इनासियो लूला दा सिल्वा लैटिन अमेरिकी राजनीति का एक ऐसा चर्चित नाम, जिसने न केवल ब्राजील की प्रोफाइल को अंतरराष्ट्रीय फलक पर पहुंचाया बल्कि देश की आर्थिक विकास की रफ्तार को दशकों तक बरकरार रखा. लूला लगभग आधी शताब्दी लंबे राजनीति कैरियर में जनवरी, 2003 में पहले वामपंथी नेता के रूप में राष्ट्रपति पद पर दाखिल हुए थे. लूला ने पहले कार्यकाल में आर्थिक विकास, समाजिक सुधार और भ्रष्टाचार को खत्म करने का लक्ष्य बनाया. यह उनकी मजबूत इच्छाशक्ति और निर्णय का नतीजा था कि उनके पहले कार्यकाल के अंत तक ब्राजील की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही थी और गरीबी दर में काफी गिरावट आ चुकी थी.

Twitter reacts to Kanhaiya’s speech

The best bits from Kanhaiya Kumar’s blockbuster speech.

ब्रिक्स के पतन की शुरूआत !

दुनिया की सातवींं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की प्रगति अन्य विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के लिए बड़ी मिसाल रही है. ऐसे में उसका पतन महाशक्तियों की नीतियों की वैधता के लिए जरूरी है.

Nivedita, My Teacher

It would be good for the journalists, instead of targeting Nivedita Menon, if they spend their energy in researching over the issues she raised during her lectures. A few people are of view that they should be allowed to attend some of her classes. I am against it because as her student, I know she expects hard work from her students, and insists them to read original literature. Both requirements would not suit the sadist journalists who are experts in maligning others by disseminating wrong information through doctored video clips.

The forgotten stanzas of Jana, Gana, Mana

India’s national anthem is only one of the five stanzas, composed and penned by Rabindranath Tagore. The remaining four stanzas can be heard here. This video is from a Bangla film Rajkahini (Srijit… Continue reading

Nationalism fever strikes India

Concerned citizens, activists, civil libertarians, constitutional experts, and protesting university students see an unfolding tragedy in the violence perpetrated by the “patriotic” mobs. The mobs undermine the democratic order. They flaunt their commitment to the ruling party’s ideology and bank on police inaction.

A Rejoinder to Deborshi’s letter to Kanhaiya

It is about the basic rights. About the release of those framed in fake cases. And the rights to speak. Against the puffed up bullies. The next stage is a next stage, and that depends on this struggle.