Category Archive: Politics

सार्कोज़ी, ज़रदारी, दलाली और आतंक

प्रकाश के रे बरगद के संपादक है. प्रसिद्ध अमरीकी साहित्यकार नैथनियल हव्थोर्न ने लिखा था कि गुज़रा हुआ समय वर्तमान के ऊपर किसी मृत दानव के शरीर की तरह पड़ा होता है. इस बात… Continue reading

इज़रायल की बर्बरता

हालाँकि इस हमले ने ग़ाज़ा की नाकेबंदी और फलस्तीन की आज़ादी के सवाल को एक बार फिर दुनिया के सामने रख दिया है, लेकिन यह चिंता भी स्वाभाविक है कि पिछली घटनाओं की तरह यह मामला भी निंदा और दुःख प्रकट करने तक ही सीमित रह जायेगा. हमें यह समझना होगा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय, ख़ासकर अमरीका, यूरोप, चीन आदि की चुप्पी ने ही मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को नाकेबंदी तोड़ते हुए ग़ाज़ा पहुँचने की कोशिश के लिये मजबूर किया है.