Category Archive: Politics

2017: The year in which nuclear weapons could be banned?

There are fears that those NATO and allied non-nuclear weapon states which might participate will run interference and complicate the discussions on behalf of the nuclear weapon states. Another fault line could be between those non-nuclear weapon states that want a quick, short norm establishing a treaty prohibiting nuclear weapons and those that might prefer a more detailed treaty with provisions on verification.

A note on the Dutch elections

A radical left does exist in the country. The critical investigation as to why it did not advance does not lie with imputing objective trends. It lies with examining the political weaknesses of the left.

The complete statement : Foreign language Oscar nominees blame ‘leading politicians’ for inciting fear and bigotry across the world

Regardless of who wins the Academy Award for Best Foreign Language Film on Sunday, we refuse to think in terms of borders. We believe there is no best country, best gender, best religion or best color. We want this award to stand as a symbol of the unity between nations and the freedom of the arts.

क्या इज़रायल को ट्रंप का अंध-समर्थन अस्थिरता को बढ़ावा देगा?

रंप के निर्वाचन के साथ ही इजरायल का धुर-दक्षिणपंथी तबका जोश में है और कब्ज़ा की गयी जमीन पर यहूदियों को बसाने का काम तेज कर दिया गया है. नेतन्याहू अपनी आक्रामक नीति पर ट्रंप की मुहर लेकर वाशिंगटन से लौटेंगे.

निश्चित रूप से फिलीस्तीनियों के लिए यह बड़ा झटका है और इसका हिंसक प्रतिवाद होने की संभावना बलवती हो गयी है. अरब में अमेरिका के मित्र-राष्ट्रों को भी इससे परेशानी हो सकती है, लेकिन उनके स्वार्थी रवैये के इतिहास को देखते हुए ऐसा नहीं लगता कि वे कोई ठोस विरोध दर्ज करायेंगे.

The Road to 2019

Narendra Modi unites the opposition, like Indira Gandhi once did. That time the RSS joined it against the Congress. Now the Congress is with it against the BJP. The temptations for the AAP to team up against the BJP are many. But the moment it gets sucked into the caste permutations of the BSP, SP, RJD and JD (U), and gets drawn into their coalitional politics, it will become just another political party. Another ayaram, gayaram party.

एक पाती अमेरिका के नाम

आप सोचिये, एक तरफ़ आपका राष्ट्रपति,चाहे वह कोई भी हो, शांति की बड़ी-बड़ी बातें करता है, और दूसरी तरफ़ दुनिया के कोने-कोने में अपने सैनिक, हथियार और परमाणु मिसाइल भेजता है. दियेगो गार्सिया गूगल कीजियेगा. मैं जहाँ से यह सब लिख रहा हूँ, वहाँ से आपके देश की दूरी हज़ारों किलोमीटर है, पर हिंद और प्रशांत महासागरों में घूमते आपके नौसैनिक पोतों से मिनटों के भीतर मेरे ऊपर परमाणु बम गिराया जा सकता है, आप ड्रोन भेज कर मुझे मार सकते हैं.

सीरिया में शांति की उम्मीद

पांच सालों से अधिक समय से चल रहे सीरियाई गृह युद्ध के सिलसिले में आगामी दिनों में महत्वपूर्ण बदलाव हो सकते हैं. पर, स्थायी शांति की अभी कोई गारंटी नहीं दी सकती है. लेबनान का सशस्त्र गुट हिजबुल्ला भी सीरिया में है. इसे ईरान और बशर अल-असद का समर्थन भी है. यमन में भी ईरान हौदी विद्रोहियों का समर्थन कर रहा है जिनके विरुद्ध सऊदी अरब का बड़ा गंठबंधन लड़ रहा है. रूस के प्रभाव के प्रति अमेरिका और यूरोप के नकारात्मक रवैये में भी बहुत जल्दी कोई अंतर नहीं आनेवाला है. फिर इसलामिक स्टेट और अल-कायदा से जुड़े गिरोहों की सक्रियता शांति वार्ताओं के परिणामों पर निर्भर नहीं करती है.

The Russians are coming!

In July 1991 I had a conversation with the then Indian Ambassador in Moscow. He vehemently disagreed with me that the Soviet Union seemed on the verge of imminent collapse. On my return I learnt that our MEA considered such thoughts as heresy. Now with the MEA under new management, equally focused in another direction, we seem to be missing the Russian story once again. Like it or not, the Russians are coming!

Normalizing fascists

How to report on a fascist?

How to cover the rise of a political leader who’s left a paper trail of anti-constitutionalism, racism and the encouragement of violence? Does the press take the position that its subject acts outside the norms of society? Or does it take the position that someone who wins a fair election is by definition “normal,” because his leadership reflects the will of the people?

These are the questions that confronted the U.S. press after the ascendance of fascist leaders in Italy and Germany in the 1920s and 1930s.

ट्रंप का न्यूक्लियर ट्वीट

आंकड़े और विश्लेषण और भी हैं. अभी तो बस यह कि ट्रंप बड़बोले हैं, और ओबामा के शातिरपने से उनका अंदाज़ अलहदा है. चीज़े वैसे ही चलती रहेंगी. और हां, भारत का न्यूक्लियर लॉबी बुश और ओबामा से ख़ुब ख़ुश रहा है, ट्रंप के साथ भी मज़ा करेगा, और आप और हम क्लिन एनर्जी के झांसे में फंसाये जाते रहेंगे.

Jeremy Corbyn’s manifesto for Europe

Often the populist right do identify the right problems but their solutions are the toxic dead ends of the past, seeking to divert it with rhetoric designed to divide and blame.

They are political parasites, feeding on people’s concerns and worsening conditions, blaming the most vulnerable for society’s ills instead of offering a way to take back real control of our lives from powerful elites who serve their own interests.

But unless progressive parties and movements break with that failed economic and political establishment it is the siren voices of the populist far right that will fill the gap.