मतभेद तो काफी गंभीर है

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कॉंग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के बीच मतभेद का विश्लेषण कर रहे हैं चर्चित पत्रकार संजीव पाण्डे. पिछले कई दिनों की चर्चाओं ने डॉ सिंह को भी सफ़ाई देने पर विवश कर दिया जिसमें उन्होंने ऐसी किसी भी स्थिति से इनकार किया है. श्री पाण्डे ने राजनीतिक गतिविधियों का आकलन कर यह बताने की कोशिश की है कि दरअसल आज केंद्र में सत्ता के दो ध्रुव काम कर रहे हैं. देश को इस मसले पर गंभीरता से विचार करना चाहिए क्योंकि अगर यह सही है तो इससे सरकार के कामकाज और उसकी नीतियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने का अंदेशा है. चंडीगढ़ में बसे संजीव पाण्डे से sanjiv.panday[at]yahoo.com पर संपर्क किया जा सकता है.

संजीव पाण्डे

संजीव पाण्डे

यूपीए-2 के चार साल पूरे हो गए। एक जोरदार जश्न का आयोजन दिल्ली में किया गया। मनमोहन सिंह ने अपनी सरकार की रिपोर्ट कार्ड पेश की। भ्रष्टाचार और घोटालों से लबालब सरकार उपलब्धियां बताने में पीछे नहीं रही। लेकिन जश्न के वक्त ही पता चला कि सरकार में सबकुछ ठीकठाक नहीं। सत्ता के दो केंद्रों के बीच जोरदार जंग चल रही है। नहीं तो जश्न के वक्त ही सोनिया गांधी को सफाई देने की जरूरत नहीं थी। सोनिया गांधी ने सफाई दी की मनमोहन सिंह से उनका कोई मतभेद नहीं है। वो पूरी तरह से मनमोहन सिंह के साथ खड़ी है। इसी सफाई ने संकेत दिया कि यूपीए -2 के दो केंद्रों के बीच गंभीर संकट है। सोनिया और मनमोहन के बीच मतभेद बढ़े हुए है। बात जब बाहर आयी तो सफाई दी जा रही है।

सोनिया और मनमोहन के बीच मतभेद के संकेत तो काफी समय से मिल रहे है। इसका मुख्य कारण मनमोहन सिंह की बढी लालसा है। वो तीसरी बार भी पीएम बनने की जुगत में लग गए है। उनके इस जुगत और इच्छा की भनक सोनिया के कुछ समर्थकों को पहले ही लग गई थी। तभी दिग्विजय सिंह ने सत्ता के दो केंद्रों पर सवाल उठाया था। लेकिन बीते दिनों मतभेद काफी गहरे हो गए है। दो मंत्रियों के इस्तीफे के वक्त मतभेद खुलकर सामने आए। मनमोहन सिंह के खास दो मंत्री अश्विनी कुमार और पवन बंसल के इस्तीफे के लेकर जोरदार ड्रामा हुआ। संकेत दिए गए कि सोनिया भ्रष्टाचार के प्रति कठोर है। वे दोनों मंत्रियों का इस्तीफा चाहती है। लेकिन मनमोहन दोनों मंत्रियों को रखना चाहते है। ये सारा कुछ एक योजना के तहत संगठन में सोनिया के लोगों ने प्रचारित किया। ताकि मनमोहन सिंह की तीसरी पर पीएम बनने की इच्छा पर जोरदार चोट की जाए।

इधर पवन बंसल भी प्रधानमंत्री के आश्वासन से काफी आश्वस्त थे। वो इतने आश्वस्त थे कि सोनिया के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल का फोन तक नहीं उठाया। बताया जाता है कि मनमोहन ने पवन बंसल को कहा था कि उन्हें इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है। इस्तीफा लेने का अधिकार पीएम को है सोनिया गांधी को नहीं। अहमद पटेल ने कई बार फोन किया। लेकिन बंसल ने फोन नहीं लिया। हालांकि अश्विनी कुमार से इतनी नाराजगी सोनिया की नहीं थी। लेकिन मनमोहन सिंह की लॉबी में शामिल होना उन्हें महंगा पड़ा। लेकिन कोलगेट घोटाले में सुप्रीम कोर्ट के सख्त रवैये के बहाने सोनिया ने मनमोहन सिंह की इच्छा पर चोट करने की योजना बनायी। उन्होंने अश्विनी कुमार की भी बलि ले ली।

Collageसोनिया की परेशानी इस समय मनमोहन का बड़ा गुट है। ये गुट पंजाब लॉबी है। इस लॉबी को बहुत चालाकी से मनमोहन सिंह ने खड़ा किया। काफी तरीके से मनमोहन सिंह ने अंबिका सोनी को अपने पक्ष में किया। अश्विनी कुमार और पवन बंसल के बढ़े कद के पीछे भी मनमोहन ही थे। सोनिया ने काफी मुश्किल से अंबिका सोनी की छुट्टी मंत्रिमंडल से करवायी। लेकिन मनमोहन सिंह के गुट के दूसरे नेताओं पर भी उनकी नजर थी। पवन बंसल लगातार मजबूत हो रहे थे। पहले उनके पास वित्त मंत्रालय था। बाद में संसदीय कार्य मंत्रालय में उन्हें जगह मिली थी। इसके बाद रेल मंत्रालय उन्हें मिला। पर कांग्रेस को इस बात की नाराजगी थी पार्टी फँड में उन्होंने कुछ नहीं दिया था। उपर से मनमोहन सिंह गुट के महत्वपूर्ण सिपाही बन बैठे थे।

सोनिया गांधी किसी भी तरह प्रधानमंत्री पद पर राहुल की ताजपोशी चाहती है। लेकिन मनमोहन की ताजी इच्छा ने उन्हें परेशान कर दिया। उपर से जमीनी संकेत अच्छे नहीं है। पार्टी की हार के संकेत 2014 में मिलने लगे है। उधर दामाद राबर्ट वढ़ेरा के कारण उनकी परेशानी अलग बढ़ी है। इस बीच मनमोहन सिंह इस पूरी स्थिति का फायदा उठाने में लगे है।मनमोहन सिंह अपनी तीसरी पारी की इच्छा रखते हुए कुछ अहम सुधार चाहते है। इसमें सीबीआई की स्वायतता संबंधी सुधार है। लेकिन सोनिया उनके इस पहल से नाराज है। सोनिया के दबाव में ही सीबीआई की स्वायतता को लेकर बनाए गए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर में प्रमुख के तौर पर पी चिंदबरम को रखा गया है। ताकि सीबीआई की स्वायतता के मसले को टाला जा सके। सीबीआई की स्वायतता भविष्य में सोनिया की मुश्किलें बढ़ाएगी। इस सच्चाई को सोनिया गांधी समझती है।

मनमोहन की इच्छा शक्ति को समर्थन राष्ट्रपति भवन से भी मिल रहा है। कांग्रेस से बाहर होने के बाद भी प्रणव मुखर्जी का खास लोग कांग्रेस में सक्रिय है। प्रणव मुखर्जी इस बात को नहीं भूले है कि सोनिया गांधी ने उन्हें प्रधानमंत्री पद पर पहुंचने से रोका। और तो और कई बार नीचा दिखाने के लिए उनके मंत्रालय में बार-बार बदलाव किया गया पहले रक्षा मंत्रालय उन्हें दिया गया। जब वे रक्षा मंत्रालय में जम गए तो विदेश मंत्रालय में भेज दिया गया। वहां फिर जब वो जमने लगे तो वित्त मंत्रालय में भेज दिया गया। सोनिया के इशारे पर पी चिंदबरम ने प्रणव मुखर्जी को परेशान करने की पूरी रचना रची। उनके कार्यालय में टेपिंग के उपकरण लगा दिए गए थे। प्रणव मुखर्जी को इस बात की जानकारी है कि सोनिया ने राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार उन्हें मजबूरी में बनाया। सोनिया की वास्तविक पसंद उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी थे। लेकिन अंतिम समय में यूपीए गठबंधन में शामिल कुछ लोग दल और एनडीए की योजना में सोनिया फंस गई। सोनिया को मजबूरी में प्रणव मुखर्जी को उम्मीदवार बनाना पड़ा। सोनिया को इस समय प्रणव मुखर्जी का भय भी सता रहा है।

सोनिया गांधी की चिंता अपने सिपाहियों को लेकर भी है। सोनिया को लड़ने के लिए योग्य सिपाही अब नहीं मिल रहे है। सोनिया के सिपाही उन्हें मजबूत करने के बजाए विवादित ब्यान देकर सोनिया को फंसाते है इससे सोनिया गांधी की स्थिति कमजोर होती है। उधर मनमोहन सिंह चुप रहते हुए अपना सारा काम करते है। दिग्विजय सिंह लगातार विवादित ब्यान देकर यह  साबित करना चाहते है कि दस जनपथ के सबसे बड़े हितैषी वही है। लेकिन सोनिया के कुछ खास नजदीकी लोग दिग्गी राजा पर भरोसा नहीं करने की सलाह सोनिया गांधी को देते है। दिग्विजय सिंह विरोधी गुट साफ तौर पर कहता है कि कांग्रेस को राज परिवारों ने धोखा दिया। इस तरह की बातें करने में जनार्दन दिवेदी और अहमद पटेल जैसे लोग शामिल है। कांग्रेस की एक लॉबी इस बात का प्रचार करने से बाज नहीं आती कि देशी रियासतों के प्रति इंदिरा गांधी के स्टैंड के कारण आजतक देश के अधिकतर राजघराने नेहरू गांधी परिवार से नाराज है। इन राजघरानों के प्रतिनिधि रहते तो कांग्रेस में है लेकिन वे मौका मिलते ही कांग्रेस को चोट पहुंचाने से बाज नहीं आते है। इसका प्रमुउख उदाहरण पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय विश्वनाथ प्रताप सिंह थे। उन्होंने मौके पर कांग्रेस को इस तरह से रगड़ा कि कांग्रेस आजतक अपने पैर पर खड़ा होने योग्य नहीं रही। बैशाखी पर ही कांग्रेस 1991 से चल रही है। स्वर्गीय अर्जुन सिंह भी कई बार मंत्रिमंडल में बैठे-बैठे अपना खेल करते रहे। उनकी कई कार्रवाइयों से यूपीए-1 की सरकार की मुश्किलें बढी थी। दिग्विजय सिंह भी इसी परंपरा के है। जो अपने बयानों और कार्रवाई से सोनिया गांधी को लगातार फंसाते रहे है।

Advertisements