बड़े परदे की खबर

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, नई दिल्ली से पी एच डी अरविन्द दासपत्रकार और फोटोग्राफ़र हैं. साहित्य और सिनेमा में गहरी रूचि. इनसे arvindkdas@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है.

अरविन्द दास

पिछले दिनों युवा फिल्म निर्देशक गुरविंदर सिंह की पंजाबी फिल्म ‘अन्हे घोड़े दा दान (अंधे घोड़े का दान)’ की एक अखबार में की गई समीक्षा को लेकर चर्चित संगीतकार और फिल्म अध्येता मदन गोपाल सिंह बेहद खिन्न थे. उनकी नज़र में इस फिल्म की समीक्षा में वो सब था जो फिल्म में नहीं है!

गौरतलब है कि चर्चित लेखक गुरुदयाल सिंह की कहानी पर आधारित ‘अन्हे घोड़े दा दान’ को हाल ही में बेहतरीन निर्देशन और सिनेमाटोग्राफी के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई.

पंजाब के एक गाँव में दलित किसानों की दुखद स्थिति के इर्द-गिर्द घूमती यह ऐसी पहली पंजाबी फिल्म है, जिसे पिछले वर्ष वेनिस फिल्म समारोह में शामिल किया गया और विदेशों में इस फिल्म की काफी सराहना की जा रही है.

पिछले वर्ष मराठी फिल्म के चर्चित युवा फिल्म निर्देशक उमेश कुलकर्णी को जब एक निजी समाचार चैनल ने ‘यंग इंडियन लीडर’ पुरस्कार से नवाजा तो सुखद आश्चर्य हुआ. बॉलीवुड के ‘स्टैपल डाइट’ पर पलने वाले हमारे समाचार चैनलों को क्षेत्रीय सिनेमा की सुध कहाँ! गौरतलब है कि उमेश कुलकर्णी की फिल्म ‘देऊल’ को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में इसी वर्ष बेस्ट फीचर फिल्म सहित कई पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई है. पहले भी उनकी फिल्मों को काफी प्रशंसा और राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.

इन फिल्मों के साथ दिक्कत यह है कि ये किसी बड़े मीडिया सहयोगी को नहीं ढूंढ पातीं और हमारी मीडिया के सरोकार और वर्ग चरित्र सबके सामने स्पष्ट है.

जब सलीम अहमद निर्देशित एक मलयाली फिल्म ‘एडामिंते माकन अबू (अबू, आदम का बच्चा)’ को भारत की ओर से आधिकारिक तौर पर ऑस्कर पुरस्कार के लिए भेजा जाता है तब दिल्ली में बैठे ‘राष्ट्रीय पत्रकारों’ को लगता है, ‘आह! अदूर गोपालकृष्णन और शाजी करुण के बाद नई पौध भी है जो अच्छी फिल्में बना रही हैं.’

बीते कुछ सालों में बॉलीवुड की फिल्मों के प्रचार में भारतीय मीडिया की सहभागिता अचंभित करती है. हर बड़े बैनर की फिल्म रिलीज होने से पहले ‘स्टार’ इस टीवी स्टूडियो से उस स्टूडियो कूदते-फांदते रहते हैं. पत्रकारों के साथ हँसते-बतियाते हैं, फोटो खिंचवाते हैं और फिर उस फिल्म को ‘भव्य’, ‘दिव्य’ ‘रूह को छूने वाली’ आदि-आदि विशेषणों से विभूषित किया जाता है.

अन्हे घोड़े दा दान के सेट पर गुरविंदर सिंह

हर शुक्रवार को बॉलीवुड के इन कलाकारों के लिए समाचार कक्ष में ‘रेड कारपेट’ बिछाया जाता है. क्या यह अनायास है कि वर्तमान में हर बड़ी फिल्म प्रोडक्शन कंपनी का मीडिया पार्टनर कोई ना कोई अखबार या खबरिया चैनल होता है?

भूमंडलीकरण के बाद पूरी दुनिया में खबरों की परिभाषा बदली है. अब संपादकों और मालिकों का सारा जोर ‘खुश खबरी’ पर रहता है. दूसरे शब्दों में, समाचार उद्योग यथास्थिति के बरकरार रखने में राज्य, बाजार और सत्ता के सहयोगी हैं. ऐसे में, आज बॉलीवुड की फिल्मों, क्रिकेट और सेंसेक्स के उछाल की खबरें सुर्खियाँ बटोर रही है और किसानों की आत्महत्या, दलितों के उत्पीड़न और आदिवासियों के जंगल और जमीन से बेदखली बमुश्किल जगह बना पाती है. ये ‘डाउन मार्केट’ की खबरें हैं!

वर्तमान में मीडिया के सरोकर ‘जन’ से नहीं ‘अभिजन’ से जुड़े हैं. अब खबरें तेजी से मनोरंजन उद्योग का हिस्सा बनती जा रही है और इससे बाजार, अखबार और खबरिया चैनलों सबका हित सधता है. पिछले दिनों भारतीय पत्रकारिता में राजनीतिक खबरों को लेकर ‘पेड न्यूज’ की खूब चर्चा हुई. इसके तहत अखबार चुनावों के दौरान एक तयशुदा ‘पैकेज’ लेकर राजनीतिक पार्टियों के मनोनुकूल खबरें, फोटो, इंटरव्यू आदि छापते हैं. वर्ष 2009 में हुए लोकसभा चुनावों और हाल ही में संपन्न हुए पंजाब विधानसभा चुनावों में एक बार फिर यह देखने में आया. लेकिन ‘पेड न्यूज’ को महज राजनीतिक खबरों तक सीमित करके देखना बीते दो दशकों में समाचार उद्योग की दशा और दिशा को संपूर्णता में देखने से चूकना होगा. यह सही है कि मीडिया किसी भी लोकतांत्रिक समाज में सूचना, शिक्षा और मनोरंजन का एक प्रमुख जरिया है. लेकिन गहरे अर्थ में वह सामाजिक विकास और परिवर्तन का माध्यम है. समाज की आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक एजेंडों को तय करने में उसकी महत्वपूर्ण भूमिका है.

यह जानने के बाद कि वर्तमान में फिल्म पत्रकारिता मेनस्ट्रीम पत्रकारिता का हिस्सा है और मनोरंजन (खास कर बॉलीवुड) की खबरों को सबसे ज्यादा तरजीह दी जा रही है, इस बात पर बहस जरुरी है इनके सबके बीच किस तरह की सांठ-गांठ है. मीडिया संगठनों और बॉलीवुड की कंपनियों के बीच दुरभि-संधि की खुल कर चर्चा होनी चाहिए. साथ ही बहस इस बात पर भी की जानी चाहिए हिंदी की सार्वजनिक दुनिया (पब्लिक स्फीयर) को पिछले दो दशकों में बॉलीवुड की फिल्मों ने और उनसे जुड़े प्रचार ने किस रूप में प्रभावित या संकीर्ण किया है और इसमें हिंदी क्षेत्र के बुद्धिजीवियों की क्या भूमिका रही है.

अकीरा कुरोसावा की चर्चित फिल्म ‘रोशोमन’ का एक पात्र कहता है- ‘झूठ है तो भी क्या फर्क पड़ता है, जब तक वह हमारा मनोरंजन करता रहे.’ बॉलीवुड की अमूमन हर फिल्म के बारे में आम दर्शकों की राय रोशोमन के इस पात्र से भिन्न नहीं होती है. वह अब सत्य, शिव और सुंदर की तलाश में सिनेमा हॉल में नहीं जाता!

फिर भी जब कोई दर्शक सिनेमा हॉल में दाखिल होता है तब उसके साथ सौ सालों की परंपरा भी होती है. इन वर्षों में हिंदी सिनेमा ने कई मानक गढ़े हैं और इन्हीं मानकों के आधार पर वह अपने तईं फिल्म को कसता-परखता है. लेकिन आश्चर्य तब होता है जब ना सिर्फ मुख्यधारा के मीडिया, बल्कि नए मीडिया- ब्लॉग, फेसबुक, टिवटर- पर भी मीडिया से जुड़े लोग, फिल्म अध्येता जानबूझ कर या अनजाने बिना किसी सोच-विचार के इन फिल्मों के प्रचार में जुट जाते हैं.

हाल ही में रिलीज हुई एक फिल्म की समीक्षा लिखते हुए एक टीवी पत्रकार ने अपने ब्लॉग पर लिखा था- ‘हम हिंदी सिनेमा देख रहे हैं, कुरोसावा की फिल्म नहीं, जिनकी एक भी फिल्म मैंने नहीं देखी है.’ उन्होंने आगे लिखा- “मैं कागज के फूल का रिव्यू नहीं लिख रहा, उस फिल्म का लिख रहा हूं जो चलती भी है और बनती भी है!”

यह उस फिल्म की समीक्षा कम प्रचार ज्यादा है, जिसे लोग एक महीने के बाद भूल जाते हैं. पर ‘कागज के फूल’ और ‘कुरोसावा’ की फिल्मों की चर्चा आज भी की जाती है.

गौरतलब है कि उस फिल्म का मीडिया पार्टनर देश का एक बड़ा मीडिया समूह था जिसके कई समाचार चैनल हैं. हम टीवी चैनल से यह अपेक्षा नहीं करते कि वह फिल्म के बारे में हमें सम्यक रूप से बताएगा, पर यह अपेक्षा स्वतंत्र ब्लॉगरों और सोशल साइट के कर्ता-धर्ताओं से है, जो किसी सेंशरशिप या बाध्यताओं के शिकार नहीं.

वर्ष 2005 में जब एक निजी समाचार चैनल पर ‘बंटी और बबली’ फिल्म के रिलीज होने से ठीक पहले स्टूडियो में फिल्म के कलाकार प्राइम टाइम की खबर पढ़ते देखे गए, तब कुछ बहस जरुर हुई, फिर सब शांत हो गया.

हाल ही में चर्चित फिल्म कलाकार इरफान खान ने ‘फिल्म प्रोमोशन’ को लेकर कलाकारों की उछल-कूद पर नाखुशी जाहिर की, लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि वे इस तमाशे से मुक्त नहीं हो सकते. फिल्म का प्रचार फिल्म निर्माण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है.

देऊल टीम

इरफान ने एक इंटरव्यू में स्वीकार किया है कि ‘जिनके पास पैसा है वे बड़े स्तर पर फिल्म का प्रोमोशन करते हैं. मैं नाम नहीं लूँगा लेकिन मैं उन फिल्मों के बारे में जानता हूँ कि जिसकी अखबारों में समीक्षाएँ लाखों रुपए देकर छापी गई लेकिन फिर भी फिल्म फ्लॉप रही.”

हमारे समय के एक बेहतरीन अभिनेता जब ऐसा कह रहे हों तो इसे भूमंडलीकरण के दौर में फिल्म प्रमोशन और मीडिया के बीच एक सांठ-गाठ की ओर इशारे की तरह देखना चाहिए. सवाल है कि अगर ऐसा है तो इससे भारतीय समाज, सिनेमा और मीडिया का कितना हित होगा!

हिंदुस्तान /30-03-2012

Advertisements