How India failed at Paris Climate Conference

India failed to do even what a small country like Nicaragua did in the Paris Climate Conference by raising its flag questioning the autocratic change introduced in the final draft at the last moment (from ‘shall’ to ‘should’ ) while adopting the 12 page long Paris Agreement dated 12th December, 2015. The Agreement being a legal text required application of basic legal knowledge by India. In law schools across the globe students are taught that “shall” is “mandatory”. The drafters of legal documents are trained into the use of “shall” as it conveys “a duty to” be performed. It conveys obligation. Had “shall” been not important 76 pages of Words and Phrases, a multi volume work of legal definitions would not have been devoted to case laws around it. The word “should” does not express a legal obligation, the word “shall” expresses a legal requirement.

Where are the Green Shoots?

The government needs to summon the political will to step up capital expenditure by trimming subsidies, more efficient, intelligent and diligent taxation and by attracting more foreign direct investment, not only in industry but even more so in infrastructure expansion and modernization. Till then green shoots will be just like shaven grass strewn on a doctored cricket pitch. Something Finance Minister and Delhi cricket czar Arun Jaitley is very familiar with.

PROMISES, ANNOUNCEMENTS AND REALITY: THE 2015 STORY

If education, training and finally gainful employment are not provided to this population, this demographic advantage can prove to be a double edged sword for the country. This young population, if unemployed, can create social and political unrest. We can only hope that enough livelihood opportunities are created in the coming years for this gradually younger population towards an inclusive kind of economic growth – instead of announcements and propaganda of new schemes as has been done by the government in 2015.

विद्रोहीः एक कवि, एक रेबेल, एक ड्रॉपआउट!

निश्चय ही वे उस रूप में जन-कवि वगैरह नहीं थे जिस रूप में हमें अब तक जन-कवियों के बारे में बताया-दिखाया-समझाया गया है. उनकी कविता में जन थे और कविता की दिशा उधर ही थी जिधर नागार्जुन, गिर्दा, और गोरख जैसों की थी. हाँ, उनकी कविता का मिजाज अलग था. इतने विराट बिम्ब गोरख, नागार्जुन किसी के पास न थे. पर न वे बाबा की तरह ‘दुनियावी’ थे, न गोरख की तरह गेय, न ही खेत-मजदूरों के जीवन-संघर्ष में पूरी तरह उतरे हुए.

THE BEATLES – DEHRA DUN

The Beatles spent some time here in 1968. They composed a number of songs while they were here, even one on Dehradun, which never formed part of an album, but now is available on youtube. The lyrics are ‘Dehra Dehra Dun, Dehra Dun Dun/ Dehra Dehra Dun/Dehra Dun Dun/ Many Roads can take you there /Many different ways/one direction takes you weeks/ another takes you days/ many people on the roads /looking at the sights/ Many others with their troubles/looking for their rights/see them move along the roads/in search of a life divine /beggars in a gold mine …Dehra Dehra Dun /Dehra Dun Dun”.

ये विद्रोही भी क्या तगड़ा कवि था…

नाम है-रमाशंकर यादव ‘विद्रोही’। ज़िला सुल्‍तानपुर के मूल निवासी। नाटा कद, दुबली काठी, सांवला रंग, उम्र लगभग 50 के आसपास, चेहरा शरीर के अनुपात में थोड़ा बड़ा और तिकोना, जिसे पूरा हिला-हिलाकर वे जब बात करते हैं, तो नज़र कहीं और जमा पाना मुश्किल होता है। विद्रोही फक्कड़ और फटेहाल रहते हैं , लेकिन आत्मकरुणा का लेशमात्र भी नहीं है, कहीं से। बड़े गर्व के साथ अपनी एक कविता में घोषणा करते हैं कि उनका पेशा है कविता बनाना…

कहो जी तुम क्या क्या खरीदोगे…

दुनिया के ‘संगतखाने’ के बेशुमार मकामों में से एक चतुर्भुज स्थान, जो ‘हर चाहनेवाले का दिलचाहा’ है, के किस्सों को ‘कोठागोई’ में संजोते हुए प्रभात रंजन ने अनेक कोठों और कोठियों की चौखट लांघी है, और उन्हें लिखते हुए वे विधाओं की चौखटों की परवाह भी नहीं करते. बारह किस्सों की यह किताब किस्सा तो है ही, वह इतिहास, समाजशास्त्रीय अध्ययन और सांस्कृतिक रिपोर्ट भी है.

जेरेमी कोर्बिन

एक दफे (1984) बीबीसी के कार्यक्रम ‘न्यूजनाइट’ पर बहस चल रही थी कि ‘हाऊस ऑफ कॉमंस’ में बैठने वाले सांसदों की पोशाक कैसी हो. उस वक्त कार्बिन की यह कहकर आलोचना होती थी कि वे सांसद होने के बावजूद हाऊस ऑफ कॉमंस में खुले गले की शर्ट पहनकर चले आते हैं. बहस में इसी आलोचना को तूल देते हुए एक वक्ता ने कार्बिन पर निशाना साधा कि अगर पोशाक के मामले में कोई सांसद सुरुचि का प्रदर्शन नहीं करता तो फिर उसे संसद से बाहर कर देना चाहिए. इस पर कोर्बिन का जवाब था कि मान्यवर, हाऊस ऑफ कॉमंस कोई ‘ फैशन परेड नहीं है, यह ‘जेन्टिलमैन’ विशेषणधारी लोगों का जमावड़ा भी नहीं है और न ही बैंकर्स का कोई संस्थान है, यह तो वह जगह है जहां अवाम की नुमाइंदगी करने वाले लोग बैठते हैं.”

Sitaram Yechury’s speech in the parliamentary debate on the constitution

One of the finest speeches in the parliament in many years… Comrade Sitaram Yechury of CPI(M) in the Rajya Sabha on 27th November, 2015 (Rajya Sabha Winter Session – 237) during the discussion… Continue reading

‘पतरा’ नहीं ‘अंचरा’ का परब है छठ

छठ पूरब के उजाड़ को थाम लेने का पर्व है, छठ चंदवा तानने और उस चंदवे के भीतर परिवार के चिरागों को नेह के आँचल की छाया देने का पर्व है. छठ ‘शहर कलकत्ता’ बसे बहंगीदार को गांव के घाट पर खींच लाने का पर्व है. छठ में आकाश का सूरज बहुत कम-कम है, मिट्टी का दीया बहुत-बहुत ज्यादा !

A Rejoinder to Chetan Bhagat

And you are Mr. English without Ideas! In a single stroke, you have turned yourself from an outcast to the Leviathan of this elite club of your imagination.

I guess, we should start giving you some intellectual credit, after all.